जरा हट के

Just another weblog

53 Posts

637 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 212 postid : 98

पृथ्वी दिवस : लें एक शपथ कि धरती को बचाएंगे

Posted On: 20 Apr, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जन्म देने वाली मां यदि बीमार पड़ जाती हैं, तो हमारी नींद उड़ जाती है। हम उसे ठीक करने के लिए दिन-रात एक कर देते हैं, जबकि इस मां ने दो-चार ही पुत्र-पुत्रियां जने हैं। वहीं, दूसरी ‘मां’ जिसे दुनिया धरती माता के नाम से जानती है, पुकारती है, इसके तो कई करोड़ ‘बेटे’ हैं। यह हमें खाना देती है, रहने के लिए जगह देती है। यूं कहें कि दुनिया में जितनी चीजें दिखती हैं, सबकुछ इसी ‘मां’ की देन है। इसके बावजूद आज हम इस ‘मां’ के दुश्मन बन गए हैं। हरे-भरे वृक्ष काट रहे हैं। इसके गर्भ में रोज खतरनाक परीक्षण कर रहे हैं। इतना जल बर्बाद किया कि कई हिस्से जलविहीन हो गए हैं। लाख कोशिशों के बाद भी दुनिया भर के वैज्ञानिक ‘दूसरी पृथ्वी’ को नहीं ढूंढ सकें। 1970 के 22 अप्रैल को पहली बार पृथ्वी दिवस मनाया गया। तत्पश्चात यह सिलसिला साल-दर-साल जारी है। क्या आपने सोचा है कि मौसम में बदलाव क्यों हो रहा है? गर्मियां और गर्म क्यों हो रही हैं? सर्दियां सिमटकर माह भर क्यों रह गई हैं? बेमौसम बारिश, बेमौसम जलसंकट, घटते जीव-जंतु व पक्षी कहीं न कहीं चीख-चीखकर इस बात के संकेत दे रहे हैं कि धरती माता के बचाव के लिए सबको आगे आना चाहिए। वरना हमारे पास पछताने के अलावा कुछ नहीं बचेगा। ग्लोबल वार्मिंग यानी जलवायु परिवर्तन आज पृथ्वी के लिए बड़ा संकट बन गया है। पृथ्वी के संबंध में कई तरह की भविष्यवाणियां भी की जा चुकी हैं। मसलन-दुनिया अब नष्ट हो जाएगी, पृथ्वी जलमग्न हो जाएगा वगैरह-वगैरह। विकास की होड़ में विश्व के 70 फीसदी विकसित देशों ने पृथ्वी को जबरदस्त नुकसान पहुंचाया है, पहुंचा रहे हैं। इसका खामियाजा पूरी दुनिया को उठाना होगा। बता दें कि कई गैसें सूर्य के प्रकाश को धरती पर आने तो देती हैं, लेकिन इसके कुछ भाग को वापस लौटने में बाधक बन जाती है। इसी प्रक्रिया को ग्रीन हाउस प्रभाव कहते हैं। ये गैसें है-कार्बन डाइ-आक्साइड, कार्बन मोनो आक्साइड, मीथेन, नाइट्रस आक्साइड। ये गैसें हमारे वायुमण्डल में उपस्थित ओजोन परत को नुकसान पहुंचा रही हैं। वायुमण्डल में धीरे-धीरे छिद्र होता जा रहा है, जो सूर्य से पृथ्वी पर आने वाली अल्ट्रा वायलेट किरणों को रोकने में असफल हो रही है। नतीजतन, पृथ्वी का तापमान बढ़ता ही जा रहा है। तीन सौ सालों में वैश्विक तापमान 0.6 डिग्री सेल्सियस बढ़ा है। आइए, पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल 2011) को हम सब शपथ लें कि अपनी धरती माता को बचाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। मसलन-पौधरोपण को खुद के रूटीन में शामिल करेंगे। इसके लिए औरों को भी प्रेरित करेंगे। पॉलीथिन का इस्तेमाल नहीं करेंगे। कागज का इस्तेमाल कम से कम करेंगे। इससे कई बांस के पेड़ कटने से बच जाएंगे। सूख रहे तालाब, कुएं को फिर से जीवित करेंगे। ब्रश करते वक्त बेसिन का नल धीमे खोलेंगे। सड़े-गले सामान सही जगह पर फेंकेंगे। खाना बनाने के लिए बायो गैस या कुकिंग गैस का ही उपयोग करेंगे। वर्षा का जल संचय की बात को गंभीरता से लेंगे। जरा सोचिए, इस पृथ्वी ने हमें क्या नहीं दिया है। दुनिया में जितनी भौतिक चीजें हैं, सब इसी की तो देन है। इसके बावजूद, हम इसे रोज नुकसान पहुंचा रहे हैं?

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Saleem Khan के द्वारा
April 23, 2011

सही कहा भाई आपने मेरा ब्लॉग देखें ! svachchhsandesh.blogspot.com

nishamittal के द्वारा
April 22, 2011

सही कहा आपने धरती का हमारे ऊपर इतना उपकार है,और हमारी कृतघ्नता है कि हम उसका दोहन कर रहे हैं.उसको बंजर बना रहे हैं.

manoj के द्वारा
April 21, 2011

आपने सही कहा, हम सब को रोज एक पौधा लगाना चाहिए। धन्यवाद

siddarth के द्वारा
April 21, 2011

वास्तव में हालत भयावह होती जा रही है। इसे रोकना होगा। हम इसमें भागीदारी निभाएंगे

rahul के द्वारा
April 21, 2011

nice

satyendra के द्वारा
April 21, 2011

very good article


topic of the week



latest from jagran